loading...

Search This Blog

Wednesday, June 22, 2016

Ankit Karma

Do you know the 11 Career options after B.pharma


There are Various Career options are available after completion of
B Pharm or M Pharm:




1) Pharmacist – The B Pharm graduate can work as a hospital Pharmacist, like Aurobindo hospital,
Apollo hospital, etc.
Being in the health-related field, the B Pharm graduate can also joined arm forces as a pharmacist or else can join any govt. hospital or any NGO , trust etc.

2) Medical Transcription – The B Pharm graduate can work with registered medical practitioners (doctors) to maintain the patient treatment history, the drug to which he/she is allergic etc.
Also some private company hired B.Pharm graduate to help them in translating medical terms they received from other or same country
doctors.

3) Sales and Marketing – Good communication skills with pleasant personality can opt for the job of Medical Sales Representative (MR-Ship Job). The companies prefer pharmacy graduates for this job, as they have a good knowledge about the drug molecules, their therapeutic effects, mechanism of action of drug and the drug – drug interactions.
Ambitious achievers can grow in this filed up to the level of MD,
Zonal manager or product manager etc. of the company, so just be focus during this job and work hard till you achieve what you want.

4) Quality Assurance / Control Manager – The Pharmacy graduate can maintain the quality of the manufactured drug in the company. She/he has to look for any update in the regulatory norms and accordingly developed the drug in the pharmaceutical company. She/he is working as a Quality assurance or quality control officer/ manager in various companies.

5) Teaching – B Pharm – 1st class pass graduate are eligible to teach as lecturers in the D Pharm students, whereas M Pharm, First Class
students can get a lecturer’s job in pharmacy degree colleges where they can teach B pharm graduate. And PhD students can teach M pharm students.
The pvt college job is paying less but if you are looking for govt. college job then relivent experience and few exam can solve the problem. Grading done as lecturer > Sr. lecturer > Assistant Professor > Principal of college.

6) Production – In various pharmaceutical companies Pharmacy graduate are maintaining the production plant of the company. Various tablet, capsule machineries are have to handle and manufacturing a lot of drug supply have to be done in a fix time along with maintain the quality of the same.

7) Research and development – R&D jobs include developing new formula or changing the exciting formula to better one. In India mostly generic drug companies hired fresher. Good
knowledge of internet and patent can help for sure. Best Luck !!

8) Packaging – Some additional packaging certificates or courses can help you to grow in the field of packaging for pharmaceutical products. As it’s essential part of the
manufacturing cycle. Packaging must be done in a better way to avoid FDA drug withdrawal and to avoid loss and damaged to the drug during transport.

9) Regulatory affairs Manager – Some CRO’s (contract research organization) and various pharmaceutical companies are hiring a pharmacy graduate to work as “Regulatory affair Manager”. They have to oversee regulatory documentation such as Clinical trial approval permission, marketing approval permission etc. from various
regulatory bodies like FDA, EMEA etc.

10) Govt Job – A pharmacy graduate can also work in the Regulatory bodies like Food and Drug Administration. They perform a job of Drug inspector and food inspector, which include inspection of manufacturing, distributing and storage facility of the drug. They have to appear and score in various exams like MPSC, UPSC to work in this area.

11) Clinical Research – There are various job profiles available in clinical research field like clinical research associate, clinical pharmacist, data managers, pharmacovigilance case processor, project managers, regulatory affair
publishers, biostatisticians, etc....

Sharing is caring...

Stay with us...Like our Facebook page..and get the latest post on your Homepage...
Read More

Saturday, April 30, 2016

Abhishek D Chouhan

About Twitt India Blog Team

About Twitt India Blog Team


Read More
Abhishek D Chouhan

Foods You Must Avoid If You Suffer From Acidity



Foods You Must Avoid If You Suffer From Acidity



There are certain foods that can trigger and worsen symptoms of hyperacidity and it is best to avoid them if you suffer from this condition. These include:

1 . Coffee

Having one cup of coffee a day is okay but there are people who are addicted to caffeine and end up drinking lost of cups in a day. Caffeine is known to increase acid production and cause reflux. So try and switch to mild teas like chamomile or lightly brewed green tea.

2 . Chocolate

Chocolate is packed with caffeine and other stimulants such as theobromine which can cause reflux and hyperacidity. Chocolate is also high in fat and cocoa which are known triggers of hyperacidity and reflux. If you are fond of chocolate, try and have the dark chocolate since it is low in fat.

3 . Carbonated Drinks

Soda and other carbonated drinks aggravate acidity and reflux. The bubbles of carbonation expand inside the stomach, and the increased pressure leads to reflux. Sodas with caffeine and those that are acidic are even worse.

4 . Deep Fried Food

A common thing in our Indian households is that foods undergo deep frying in an effort to make them more tasty. Fried foods are loaded with fat which is one of the main culprit for causing acidity.  Experts suggest that fried food is the single most recognized cause of acidity. It also triggers acid reflux causing heartburn and chest pain. Avoid frying as much as possible and try and bake, boil or air fry your vegetables and snacks.

5 . Fat Rich Dairy

The high-fat foods like cheese, ghee, butter and cream cause hyper-acidity. Consuming too much of cheese and butter can worsen symptoms of acidity. So, it is best to avoid them. If you have to, use a small amount of these foods as flavoring, but not as main ingredients.

6 . Meats

High fat meats like lamb and pork which stay longer in the stomach increase the chance of acid production in the stomach.Try cutting back to a lean cut of meat and eat it only once a week.

7 . Citrus fruits

The acid present in citrus fruits (like oranges, kiwis, lemons) triggers reflux symptoms by relaxing the lower esophageal sphincter. Citrus fruits also contain more acid than other fruits, which worsen symptoms of acidity.You can replace these fruits with non-citrus fruits like apple, banana, melon, guava and watermelon.

8 . Alcohol

All forms of alcohol especially beer, wine, and liquor can cause severe acid reflux symptoms in two ways. Firstly, alcohol relaxes the lower esophageal sphincter muscles, allowing acid into the esophagus. Second, alcohol stimulates secretion of stomach acid causing reflux and acidity.


Read More
Abhishek D Chouhan

Growing Uses of Medicinal plants in Different area of medicine

Growing Uses of Medicinal plants in Different area of medicine


Medicinal and aromatic plants constitute a major segment of the flora that provides raw materials for pharmaceuticals, cosmetics, and drug industries. The indigenous systems of medicines, developed in India for centuries, make use of many medicinal herbs that includes Ayurveda, Siddha, Unani, and many other indigenous practices. India is one of the world’s 12th mega diversity centers with 47,000 plant species and is divided into 20 agro-eco zones.

There are many medicinally valued plant resources, which provide various kinds of drugs and medicines for various ailments in our country. In one of the studies by the WHO, it is estimated that 80 per cent of the population of developing countries relies on traditional plant based medicines for their health requirements. Even in many of the modern medicines, the basic composition is derived from medicinal plants and these have become acceptable medicines for many reasons that include easy availability, least side effects, low prices, environmental friendliness and lasting curative property. India and China are the two major producing countries, having 40 per cent of the global biodiversity and availability of rare species.

The Ministry of Environment and Forest, Government of India has identified and documented over 9,500 species of medicinal plants that are significant for the pharmaceutical industry. Of these, 2,000 to 2,300 species are used in traditional medicines while at least 150 species are used commercially on a large scale.

The importance of medicinal and aromatic crops is increasing in the recent past, due to various changes that have taken place in the field. The first and foremost change that has been observed is the preferred shift from Western medicines towards indigenous medicines. This was also encouraged by the natural/organic contents of these medicines, and their affordability. The increased popularity of Ayurvedic medicines in the Western world has spurred increased demand for trade.

Modern tools of pharmacology have greatly improved on the methods of the forest shaman, the Egyptian seer, and the Aztec herbalist, but we have yet to discover or invent a richer selection of chemical possibilities than that which nature has already provided. So long as the natural diversity of the earth’s vegetation remains accessible to scientific inquiry, the tradition of medicinal plant exploration is likely to continue for centuries to come.

Disclaimer- Data collected by different sources and data have values before of year 2013.

Plants are most important for humanity. Plants may be food, may be medicine, may be cloth, and may be house. Plants are our life. So protect them.

Read More
Abhishek D Chouhan

Psoriasis

Psoriasis

Psoriasis is regarded as an autoimmune disease in which genetic and environmental factors have a significant role. The name of the disease is derived from Greek word “psora‟ which means „itch‟. Psoriasis is a non-contagious, dry, inflammatory and ugly skin disorder, which can involve entire system of person.

Psoriasis is a chronic, relapsing, papulosquamous dermatitis characterized by abnormal hyperproliferation of the epidermis. It affects approximately 1.5% to 2% of the population in the western countries. Psoriasis onset can occur at any age, including birth, but there are two peaks, one in teenagers, around 15-20 years of age, and another in the elderly, 55-60 years of age. There are no significant differences in the incidence of psoriasis in male and female patients.

Several distinct but overlapping clinical variants have been identified, but chronic plaque-type lesions are most common. Psoriatic plaques are characterized by a marked keratinocyte hyperproliferation, altered differentiation, and keratin expression, and they are associated with dermal and epidermal infiltration of leukocytes.

Psoriasis has very significant psychosocial morbidity which appears independent of objective disease severity. It is also associated with an increased risk of cardiovascular disease and mortality. Indeed patients with psoriasis have almost twice the risk of cardiovascular disease when compared with normal controls.

The disorder is a chronic recurring condition which varies in severity from minor localized patches to complete body coverage. Fingernails and toenails are frequently affected. Psoriasis can also cause inflammation of the joints, which is known as psoriatic arthritis. Almost 10 to 15 percent of people with psoriasis have psoriatic arthritis. Psoriasis does not show a static clinical picture, lesions grow and regress. New lesions start as small pinpoint papillae. In the early phase, the papules unite, become confluent, and form plaques.

Read More

Friday, April 29, 2016

Abhishek D Chouhan

Benefits of Neem leaves



1 . Fights Skin Problems

The neem leaves possess anti-viral, anti-bacterial and anti-fungal properties which makes it beneficial for various skin problems. Skin conditions such as acne, black heads, drying and pigmentation can be taken care by neem leaves. Get some neem leaves and boil till the water turns green. Wash your face with this water every morning. You can also add this water to your bath water every day to keep the skin infections at bay.

2 . Treats Dandruff

Due to their anti-microbial property, the leaves can be used to eliminate dandruff. Crush tender neem leaves and tulsi and use the extract to wash your hair at least twice a week.

3 . Reduces Belly Fat

Neem flowers aid fat breakdown. Neem flowers if taken along with lemon facilitate effective waste elimination from the body hence helping fat breakdown. Crush a handful of neem flowers add a spoon of honey and half of lemon juice. Mix this solution well and sip it on an empty stomach in the morning. You should not drink anything else for atleast half an hour.

4. Regulates Blood Sugar 

 Neem flowers have lipid lowering and anti-diabetic properties. You can drink neem flower juice on empty stomach and keep your sugar under control.

 5 . Fights Cancer

 Polysaccharides & limonoids found in neem help in reducing tumours & cancer. Consuming neem in any form prevents the accumulation of cancerous cells and also keeps the number in control. The most effective way to benefit is to have a glass of neem juice early morning. Take some neem leaves, wash them off and add to water. Boil till the water becomes half of initial level. You can add some spices to reduce its bitterness. Never add sugar to neem juice, you can use honey though.

6 . Relieves Oral Problems

Neem twigs commonly called daatun, is an excellent solution to oral problems. The anti-microbial and anti-fungal properties of neem provide relief from mouth ulcers, bad breath, toothache and also keeps the teeth shining. Use a medium size twig and chew it from one side to make it like a brush. Now brush your teeth with this natural brush and rinse with water.

7 . Promotes Gastric Health

Neem has also been associated with keeping gastric problems away. Conditions like stomach ulcer, cramping, bloating can be cured if one consumes neem in any of the form stated above.

Read More
Abhishek D Chouhan

Food help to reduce acne

Some foods that help in reducing the appearance of acne.



1 . Avocado

Avocado is relatively new to this part of the world. But this is one fruit with countless health benefits. It is a green fruit, rich in vitamin E and vitamin C. Vitamin E helps to increase the vitality of skin whereas vitamin C helps to reduce skin inflammation and in naturally moisturizing the skin. Have a serving of this exotic fruit 1-2 times a week when it is in season.

2. Cucumber

Cucumbers are a rich source of vitamins A, C, E and amino acids. All these nutrients help in fighting the process of acne formation. The best thing about cucumbers is that you can have them without watching the portion size. So add them to your lunch or have them as a pre-dinner snack to help your skin clear out naturally.



3 . Red Grapes

The red grapes as well as seeds contain powerful natural chemicals and antioxidants that have been shown to treat inflammatory skin conditions. You can add them to your fruit salads or have  a serving once a day to help clear out acne.

4 . Tomatoes

Tomatoes are not only packed with vitamin C,they are also rich in  bio-flavonoids that help to repair damaged or scarred skin. Experts suggest that if you have tomatoes regularly, it will help in reducing your acne.So have tomatoes as salads, as soup or add them to your smoothies.

5 . Fennel

Fennel or saunf has been used in our country for ages to improve digestive health. But that is not the only health benefit that it has to offer. Fennel is an excellent skin cleanser and helps in reducing swelling. It also helps to flush out excess fluids and toxins from your skin. Add fennel seeds to your salads and to your cooking. You can also have a spoonful after lunch or dinner.

6 . Garlic

Garlic is known for its anti-inflammatory properties. It contains a chemical called allicin. Allicin acts as a natural anti-microbial and kills bacteria and viruses that can worsen acne. Add garlic to your daily cooking or have 1-2 cloves of crushed garlic daily to help your skin heal naturally.

7 . Lemon

Lemons are a powerhouse of vitamin C. Vitamin c helps infighting skin inflammation and adds glow to the skin. Have 1 freshly lemon in warm water  first thing in the morning daily and see a visible change in your skin over a couple weeks.

8 . Colorful Fruits

Colorful fruits like papayas, mangoes, and passion fruit contain high content of vitamin A, which is extremely good at fighting acne. Have a serving of these fruits 4-5 days a week. You can replace your cup of coffee with one of these fruits and see your pimples vanish away gradually over 3-4 weeks.

9 . Fish

This might sound strange but fatty fish help in clearing acne and pimples. Fish is an excellent source of omega 3 fatty acids and omega 6 fatty acids. These fatty acids help in reducing inflammation which in turn prevents clogging of pores which leads to acne. Fish like salmon, mackerel are great to reduce acne as well as skin blemishes. Have fish 1-2 times a week. It is best to opt for grilled or boiled to get the maximum benefits.

10 . Nuts

Studies show that deficiency of minerals like zinc and selenium may lead to acne. Nuts like almonds and walnuts are loaded with selenium, copper, zinc, vitamin E, manganese, magnesium, potassium, calcium and iron, which are all essential for healthy skin. So, have a handful of unsalted unprocessed nuts as your mid-day snack and give your skin a punch of skin healthy minerals.
Read More

Thursday, April 28, 2016

Abhishek D Chouhan

EFFECTIVE DISEASE MANAGEMENT BY REDUCED PRISCRIPTION LOAD

EFFECTIVE DISEASE MANAGEMENT BY REDUCED PRISCRIPTION LOAD


According to surveys, around 5% hospital admission are due to ADR cases. In year 1994 around 1,06,000 people died and around 2.216,000 people hospitalized because of serious ADR. Around rupee 481-690 / month are spend by  patient due to ADR according ton the survey in year 2007. According to World Health Organization 87 lacs people get hospitalized due to drug-drug interaction and ADR.


                   The main causes for ADR and drug-drug interaction are prescription load, discontinuation of prescription , lack of knowledge and awareness.


     Adverse event according to the class of drug involved – Antimicrobial agents causes maximum around 42.6% of ADR, while cardiovascular disease causes 8% , respiratory 7.2% and diuretics 2.8%.
National pharmacovigilance programme are conducted in India for reducing the rate of ADR and DDI cases by managing the medication load on the patients.


        This can only be approached by pharmacovigilance i.e. the science and activities resulting to the detection assessment understanding and prevention of adverse effect of drug.


         The clinical management for the reduction of prescription load and its adverse effects (ADR and DDI) can be done by using the alternatives such as DASH, patient counseling for disease knowledge and awareness, lifestyle modification.


            Change in the lifestyle in a positive way reduce atleast few percents of medication load. This positive change can be adopted by balanced diet and exercises along with some precautions which is to be taken to prevent the bad effects diseases and drugs.

----Original Author
Mariya Bawahir  (My best friend)
Read More
Abhishek D Chouhan

Different Types of Pharmacist and Their Qualities


Different Types of Pharmacist and Their Qualities



Academic Pharmacist
1. Ability to balance research & teaching responsibilities with patient care
2. Ability to serve as a role model for pharmacy students and residents
3. Comfort with sophisticated instrumentation, statistical analyses, and other research methods

Chain Drug Store Pharmacist
1. Endurance to work long hours, often standing up
2. Ability to handle multiple tasks and heavy workloads
3. Ability to endure high levels of stress
4. A desire to help people and improve the quality of their lives
5. A strong ability to communicate clearly and effectively
6. A team approach and a positive attitude

Compounding Pharmacist
1. Advanced training in advanced compounding techniques
2. Creativity and problem-solving skills
3. Ability to work one-on-one with patients and determine individual needs

Critical Care Pharmacist
1. ACLS (advanced cardiac life support) certification may be preferred
2. Ability to work as part of a multidisciplinary team
3. Ability to integrate patient care with teaching research duties as well

Drug Information Specialist 
1. Experience and/or training in clinical toxicology, poison, and drug information services
2. Communication skills
3. Ease with computers and other modern technologies

Home Care Pharmacist
1. Willingness to work as part of a multidisciplinary health care team
2. Effective communication skills
3. Strong record-keeping and documentation skills
4. Willingness to be flexible with hours and on-call

Hospice Pharmacist
1. Compassion in counseling and educating hospice patients and their families
2. Ability to work with a team of nurses, physicians, social workers, bereavement counselors, and volunteers
3. Ability to give clear precise directions and explanations to elderly patients
4. Clear concept of appropriate pain management techniques and palliative care medicine

Hospital Staff Pharmacist
1. Ability to work one-on-one with patients
2. Organizational skills, to be responsible for systems which control drug distribution
3. Proficient in math
4. Good communication skills

Industry-based Pharmacist
1. Ability to meet technical demands and perform scientific duties
2. Administrative, management, and/or business skills may be useful
3. Sales and/or marketing skills may be useful
4. Excellent communication skills


Infectious Disease Pharmacist
1. Ability to work one-on-one with individual patients, pharmacists, physicians and other clinicians
2. Ability to conduct general antimicrobial drug reviews and participate in the development of antimicrobial drug use policies
3. Research skills
4. In-depth knowledge of antimicrobial pharmacology

Long-term Care Pharmacist
1. Good communication skills and ability to interact well with people
2. Ability to work as part of a healthcare team
3. Must enjoy working with a geriatric community

Managed Care Pharmacist
1. Ability to perform research and analyze results
2. Willingness to work closely with physicians, case managers, and other care givers
3. Business and management skills
4. Ability to interact with clients and solve their problems

Military Pharmacist
1. Ability to handle a lot of responsibility early in your career
2. Desire for foreign travel and frequent moves
3. Desire to work in and out of a hospital setting

Nuclear Pharmacist
1. Ability to serve as a Radiation Safety Office (training is needed in areas such as radiation physics, biology and radiopharmaceutical chemistry, followed by one year of experience as a radiation safety technologist)
2. Training the handling of radioactive materials (can be obtained as part of PharmD or through company training
3. Ability to describe literature regarding radiopharmaceuticals to hospital and lab staff

Nutrition Support Pharmacist
1. Ability to work well with patients
2. Ability to function as a member of a multidisciplinary team
3. Creativity in designing treatments specific to a patient’s needs

Oncology Pharmacist
1. Board certification as an oncology pharmacist
2. Caution and sensitivity to work in an area where experimental drug therapies are frequently used
3. Ability to recognize the balance between improved survival and quality of life

Operating Room Pharmacist
1. Ability to deal with emergency situations
2. Thorough knowledge of anesthesia and surgery medications
3. Basic understanding of the anesthesia machine and monitors
4. Ability to function as part of a multidisciplinary team
5. Willingness to learn on own

Pediatric Pharmacist
1. Desire to work with children
2. Strong oral and written communications skills
3. Strong investigative, research, and problem-solving skills

Pharmacist in a Grocery Chain 
1. Strong customer service skills
2. Ability to communicate effectively
3. Business and management skills

Pharmacy Benefit Manager
1. Strong business and management skills
2. Ability to gather, analyze, and make decisions based on data
3. Ability to multi-task

Poison Control Pharmacist 
1. Ability to communicate with healthcare professionals and the public over the telephone during crisis circumstances
2. Knowledge of crisis intervention techniques
3. Data entry and documentation skills
4. Strong knowledge and interest in pharmacology and toxicology

Primary Care Pharmacist
1. Ability to work alongside physicians and nurses as part of a primary healthcare team
2. Written and oral communication skills
3. Desire to be directly involved in patient care

Psychiatric Pharmacist 
1. Ability to work as part of a multidisciplinary team
2. A broad knowledge of psychiatric disorders and treatments
3. An interest in interacting with psychiatric patients

Public Health Service Pharmacist
1. Commitment to public health
2. Willingness to work with medically underserved populations
3. Ability to take on a variety of administrative and clinical roles

Regulatory Pharmacist
1. Project management/organizational skills
2. Negotiation and communication skills
3. Understanding of the scientific and technical background of products
4. Willingness to keep up to date with regulatory policies and procedures

Veterinary Pharmacist
1. Creativity and resourcefulness for dealing with a variety of animal patients and their owners
2. Ability to work closely with veterinarians
3. Strong knowledge base in pharmacy and the willingness to compound prescriptions
4. Ability to solve problems, prepares products, teach and consult with healthcare workers and pet owners

Read More
Abhishek D Chouhan

Use of liposome in treatment of diseases

Use of liposome in treatment of diseases

Liposomes are acceptable and superior carriers and have ability to encapsulate hydrophilic and lipophilic drugs and protect them from degradation. Liposomes are microparticulate lipoidal vesicles which are under extensive investigation as drug carriers for improving the delivery of therapeutic agents. Due to new developments in liposome technology, several liposome-based drug formulations are currently in clinical trial, and recently some of them have been approved for clinical use. Reformulation of drugs in liposomes has provided an opportunity to enhance the therapeutic indices of various agents mainly through alteration in their bio-distribution. This review discusses the potential applications of liposomes in drug delivery with examples of formulations approved for clinical use, their preparation method, targeting, mechanism of formation, liposome component and the problems associated with further exploitation of this drug delivery system.

Liposomes are concentric bilayered vesicle in which an aqueous volume is entirely enclosed by a membranous lipid bilayer mainly composed of natural or synthetic phospholipids.

Liposome carriers, well known for their potential application. Liposomes are acceptable and superior carriers and have ability to encapsulate hydrophilic and lipophilic drugs and protect them from degradation. There are a number of methods available by which liposomes can be manufactured separately depending on the property of molecule. The liposomes containing drugs can be administrated by many routes (intravenous, oral inhalation, local application, ocular) and these can be used for the treatment of various diseases.

Read More
Abhishek D Chouhan

Tips for interview

1) CV / Resume को बनाने में पूरी सावधानी बरतें :
आपकी CV का मकसद अपने potential employer को यह दिखाना होना चाहिए की क्यों आप इस जॉब के लिए best person हैं .आपकी CV ही आपसे related वो पहली चीज होती है जो Interviewer के सामने जाती है .कह सकते हैं कि उनकी नज़रों में यही आपका first impression होता है . अगर interviewer को CV अच्छी नहीं लगी , या उसमे बचकानी mistakes दिखीं तो आपके लिए उसका perception खाराब हो सकता है . और ये भी ध्यान रखें कि आपकी छोटी छोटी बातें कहीं ना कहीं आपकी बड़ी -बड़ी हरकतों की ओर भी इशारा करती हैं . अगर कोई व्यक्ति अपनी CV बनाने में असावधान है तो job में भी उसके ऐसा करने के काफी chances हैं , और ये बात interviewer अच्छी तरह से जानता है .
CV अच्छे से बनाना इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि ज्यादातर companies में पहले CV के basis पर ही candidates को छांट दिया जाता है , और अगर आप यहीं छांट गए तो बाकी tips रखी की रखी रह जायेंगी . इसलिए इस most important step को कत्तई miss ना करें .
मैं यहाँ CV कैसे बनाएं , ये तो नहीं बता सकता पर कुछ important points ज़रूर share कर सकता हूँ जिस पर आपको ध्यान देना चाहिए :
आपकी CV का look professional होना चाहिए .
बड़े -बड़े paragraph की जगह bullet points use करें , ये interviewer को CV पढने के लिए ज्यादा प्रेरित करते हैं .
कोई भी Spelling mistake नहीं होनी चाहिए .
अगर CV दो page में बन सकती है तो जबरदस्ती उसे चार page का ना बनाएं .
अलग -अलग job के हिसाब से अपनी CV में थोड़े – बहुत बदलाव करें .
उन points को highlight करने की कोशिश करें जो इस job से related हों.
CV बनाने के बाद दो-चार लोगों से उसे पढवा लें .
2) Job से related theoretical knowledge को special attention दें :
Job से सम्बंधित theoretical knowledge को बराबर importance दें , मैं कुछ ऐसे लोगों को जानता हूँ जिनके पास practically काम कैसे होता है इस बात की अच्छी knowledge है , पर वो technical terms और theory में lack करते हैं , और इस वजह से उन्हें interview में उतनी सफलता नहीं मिल पाती . आप इस तरह की गलती ना करें , और theoretical knowledge को कम ना आंकें .
अगर मैं अपनी बात करूँ तो interview की पूरी preparation का 60% time इसी काम में देता हूँ . यहाँ पर दिया गया effort और चीजों को आसान बना देता है , आपका confidence बढ़ जाता है , और आप जो answers देते हैं उसमे ये साफ़ झलकता भी है . Interviewer भी शुरआती answers की quality से ही जान लेता है कि आप एक well prepared candidate हैं या एक casual candidate.
Interview को कभी casually नहीं लेना चाहिए , यह एक competition है , आपको खुद को दूसरों से बेहतर साबित करना होता है . और आप किसी भी department में कोताही नहीं बरत सकते . इसलिए आप जो भी interview देने जा रहे हैं उस field से related theoretical knowledge पर अतिरिक्त ध्यान दें .
3) खुद को Employer की जगह रख कर देखें :
ये सोचिये कि अगर आप Interviewer होते तो एक ideal candidate के अन्दर क्या खोजते . जो job vacancy है उसकी specific need को समझने की कोशिश कीजिये , और उन needs को पूरा करने के लिए जो qualities चाहिएं उसे interview में showcase कर सकते हैं.दूसरी तरफ आप उन qualities को छुपा भी सकते हैं जो इस जॉब के लिए फिट नहीं बैठतीं.
For example: अगर Marketing जॉब के लिए जा रहे हैं , तो आपकी travelling की hobby को आप highlight कर सकते हैं , पर यदि आप operations की जॉब के लिए जा रहे हैं तो आपको इसे highlight नहीं करना चाहिए . अलग -अलग job requirements के हिसाब से आप अपनी CV में बदलाव कर सकते हैं , और उसे और भी effective बना सकते हैं .
आम तौर पर कोई interviewer आपके confidence, subject knowledge और stability , team में काम करने की क्षमता, इत्यादि check करते है .
कई बार ये भी होता है कि आप किसी काम के लिए overqualified होते हैं , जैसे कि अगर computer operator का काम है और कोई MCA उस जॉब के लिए interview दे रहा है , तो भी Employer उसे select करने में हिचकेगा , क्योंकि उसकी इस job में टिकने के आसार कम होंगे . इसलिए अगर job के हिसाब से आपकी qualification अधिक है तो उसे mention नहीं करना ही ठीक रहता है .
इसी तरह जब आप खुद को employer की जगह रखकर देखते हैं तो आपके दिमाग में कई बातें आएँगी और आप उस हिसाब से खुद को तैयार कर सकते हैं .
4) Frequently Asked Questions( FAQs) की तैयारी ठीक से कर लें :
Job interviews में कुछ questions बहुत ही common होते हैं , जो लगभग हर एक interview में पूछे जाते हैं . ऐसे questions की तैयारी अच्छे से कर लें , और साथ ही साथ उन questions के बारे में भी सोच लें जो आपके जवाब के बदले आपसे पूछे जा सकते हैं .
यहाँ मैं ऐसे questions की एक छोटी सी list दे रहा हूँ :
  • Tell me about Yourself ? / Walk me through you CV?/ Introduce yourself/ अपने बारे में हमें बताएं ?
  • Do you want to ask any question? / क्या आप कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं . ( Inerview के अंत में ये पूछा जा सकता है .)
  • Tell us about your current job, what is your role?/ अपनी मौजूदा नौकरी के बारे में बताएं , आपका काम क्या है ?
  • Why do you want to join this company? / आप ये company क्यों join करना चाहते हैं ?
  • Why is there a gap in your studies/ job ? आपकी पढाई /job में gap क्यों है ?
  • Why do you want to leave your current job? / आप अपनी मौजूदा नौकरी क्यों छोड़ना चाहते हैं ?
  • What are your weaknesses / strengths ? / आपकी weakness/ strength क्या है ?
  • Why should we select you? /हम आपका चयन क्यों करें ?
  • Why did you chose this specialization? आपने यह specialization क्यों किया ?
  • Why your marks are very low in xyz exam? Xyz exam में आपके marks इतने कम क्यों हैं ?
  • What has been your biggest achievement till date? / अब तक की आपकी सबसे बड़ी achievement क्या रही है ?

    इसके अलावा आपकी industry से related कुछ common questions भी पूछे जा सकते हैं , इसलिए ऐसे प्रश्नों की study पहले से ही detail में कर लें .
In questions की तैयारी करने का मतलब ये नहीं है कि इन्हें रटा जाए . ये इसलिए है कि आपकी mental clarity बनी रहे . In questions के answers की एक outline आपके mind में तैयार होनी चाहिए , और interview के समय उसे अपने शब्दों में बोलने के लिए तैयार रहना चाहिए .
For example: अगर कोई अचानक ही आपसे आपकी strength पूछ ले तो आप कोई ना कोई उत्तर ज़रूर दे लेंगे पर हो सकता है बाद में आपको लगे की आप अपनी सबसे बड़ी खूबी बताने से ही चूक गए हैं , लेकिन अगर आप पहले से prepared रहेंगे तो ऐसी गलती नहीं होगी .
5) Mind में पूरा interview process कई बार run कर लें :
 .ऐसा करने से mind कई चीजों को लेकर बिलकुल clear हो जाता है . जैसे कि कब उठाना है , क्या revise करना है , क्या पहन कर जाना है , कैसे जाना है , कब तक पहुचना है , क्या -क्या लेकर जाना है , कैसा gesture रखना है , कैसे खुद को introduce करना है , etc.
इसमें सबसे ज़रूरी part होता है खुद को interviewer से interact करते हुए visualize करना .कि interviewer कोई question पूछ रहा है , और फिर मैं उसका answer दे रहा हूँ . ऐसा करने से कई बार ऐसे questions दिमाग में आ जाते हैं जिनका answer ठीक से नहीं पता होता 

6) Mock & Mirror Practice
अगर आपको Interview देने का अधिक अनुभव नहीं है तो आपको भी Mock Interviews जरूर देने चाहियें . मौक interview conduct करने के लिए आप अपने किसी ऐसे friend या senior से request कर सकते हैं जो आपको एक सही feedback दे सके . इस activity को बहुत seriously कीजिये , ये आपको बहुत कुछ सीखा सकती है . क्योंकि अक्सर हम खुद जो गलतियाँ करते हैं वो हमें दिखाई नहीं देतीं , लेकिन और कोई उन्ही चीजों को आसानी से point कर सकता है .
ये ध्यान दें कि कहीं इस activity से आपका confidence कम ना हो . यहाँ interview लेने वाले को समझदारी दिखानी होगी कि वो आपकी improvement areas भी बताये और आपका confidence भी बढ़ाये . अगर आपको लगता है कि इस activity से आपका confidence lose हो सकता है तो इसे ना करें . इसकी जगह आप खुद शीशे के सामने बैठ कर अपना interview दें , और चाहें तो उसे अपने mobile में record भी कर लें . जब आप अपने answers सुनेंगे तो आपको खुद -बखुद कुछ improvement areas दिख जायेंगी .

7) Non-Verbal Communication पर ध्यान दें :
हम जो communicate करते हैं वो सामने वाले तक दो तरह से पहुँचता है . Verbally और Non-Verbally.
Verbally , यानि जो हम बोलते हैं , या लिखते हैं , और Non-Verbally बाकी चीजें , हम कैसे, किस tone में बोलते हैं , हमारे बैठने का तरीका , eye contact, even हमारा dressing sense. अलग -अलग research के मुताबिक़ हमारे total communication में सिर्फ 20% verbal होता है और 80% Non-verbal.
इसलिए इस 80% पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है . आपको interviewer से interact करते वक़्त कुछ बातों का ध्यान देना होगा :
  • आपको देखकर लगे की आप इस job में genuinely interested हैं .ऐसा आप अच्छे से dress up होकर , time से venue पर पहुंच कर कर सकते हैं .
  • आपकी आवाज़ dull नहीं होनी चाहिए , enthusiasm और confidence show करना बहुत ज़रूरी है .
  • पहली बार मिलते वक़्त हलकी सी smile ज़रूरी है , और interview के दौरान भी आपको एक friendly gesture रखना चाहिए .
  • Job के लिए आपका जोश आपकी तैयारी से साफ़ झलकेगा , इसलिए अपना homework अच्छे से कर के interview देने जाएं . Specially, company के बारे में आपको अच्छी जानकारी होनी चाहिए , और आपकी field से related current developments भी पता होने चाहिएं .
8 ) Contradictory answers ना दें :
Interviewer आपकी honesty check करने के लिए , या बस यूहीं कुछ ऐसे प्रश्न पूछ सकते हैं जिनका उत्तर एक -दूसरे से related हो .
For example: अगर आप पहले कह चुके हैं कि ये आपकी dream company है , पर जब ये पूछा जाता है कि ये company क्या – क्या service देती है , और आप ठीक से नहीं बता पाते हैं , तो येही message जाता है कि एक तरफ तो ये आपकी dream company है और दूसरी तरफ आप इसके बारे में basic जानकारी भी नहीं रखते हैं तो इसका मतलब आप honest नहीं हैं .
या मान लीजिये आपने CV में अपनी hobby Playing Cricket लिखी है , और interview में Playing Chess बताते हैं तो definitely interviewer को आप पर doubt होगा .
Interview में सच बोलना ही सही रहता है , पर यदि आप excitement या nervousness में कुछ अधिक बोल गए हों तो उस उत्तर पर टिके रहिये , और पूरे interview के दौरान उसे contradict मत करिए .
9) जिस भाषा में comfortable हों उसी में इंटरव्यू दें :
यदि आप English और हिंदी दोनों में बात करने में निपुण हैं तो आप ये point skip कर सकते हैं लेकिन अगर आप अंग्रेजी में comfortable नहीं हैं तो आपके लिए एक important point हो सकता है .
अगर देखें तो आज -कल ज्यादातर job interviews English में होते हैं , लेकिन कई जगह जहां Hindi में भी interview हो सकते हैं वहां भी लोग English में ही interview देने की कोशिश करते हैं . देखिये , गलत अंग्रेजी बोलने से अच्छा है सही हिंदी बोलें.
हाँ , अगर job ही ऐसी है जहाँ बिना English के काम नहीं चलने वाला , जैसे कि International Call center, etc में ,तब आप अंग्रेजी में ही बात करने की कोशिश करें , लेकिन अगर कोई ऐसी job है जहाँ Hindi से भी काम चल सकता है तो Hindi में ही बात करें . In fact interview के शुरू में ही आप साक्षातकर्ता से पूछ सकते हैं कि Can I answer the questions in Hindi ? क्या मैं अपने उत्तर हिंदी में दे सकता हूँ ? ज्यादातर case में आपको हाँ में ही उत्तर मिलना चाहिए . और फिर आप अपना पूरा Interview Hindi +English मिला कर दे सकते हैं . Actually, बहुत सारी jobs में बस आपको English के समझ की आवश्यकता होती है , भले आप उसे बोल ना पाएं लेकिन , सुनकर या पढ़कर समझने की काबिलियत भी उस काम को करने के लिए पर्याप्त होती है , और Interviewer भी इस बात को समझता है.
ऐसा करने का सबसे बड़ा लाभ ये है कि आप स्वयं को अच्छे से व्यक्त कर पायेंगे और आपकी उस नौकरी से related जो भी knowledge है उसे interviewer के सामने आसानी से ला पाएंगे . और जब आप ऐसा करेंगे तो आपके success के chance निश्चित रूप से बढ़ जायेंगे .
10) ये सोच कर चलें कि Selection हुआ तो अच्छा नहीं तो कुछ इससे भी अच्छा होगा :
Interview में select होने के लिए बहुत over conscious मत होइए . अगर आप select नहीं होते हैं तो भी दुनिया इधर की उधर नहीं होने वाली , in fact कुछ महीनों बाद शायद आपको याद भी ना रहे कि आप ऐसे किसी interview में appear हुए थे . Positive attitude रखने वाले ये मान कर चलते हैं कि जो होता है अच्छा होता है.

Read More

Monday, April 25, 2016

Abhishek D Chouhan

Health Benefits Of Indian Gooseberry

Health Benefits Of Amla (Indian Gooseberry)

‘Good things come in small packages’ is a saying that holds particular truth for the Indian Gooseberry or Amla. The beautiful sour fruit is packed with vitamin C, anti-oxidants, Vitamin B Complex, fiber and minerals like calcium, iron, chromium and phosphorus. Amla has been used widely in Ayurvedic and Herbal medicines for centuries and holds a haloed place in the Indian society.


Health Benefits Of Amla Include:

1 . Delays Ageing

The rich content of anti-oxidants in Amla fight free radicals that cause cell damage and lead to ageing in humans. A raw gooseberry a day can keep the wrinkles away. It is best had with pepper and salt on an empty stomach in the morning.

2 . Fights Obesity

Amla burns cholesterol and enhances the retention of protein and nitrogen in the body thereby helping us build muscle and reduce flab. One fruit to start the day will be your best friend to kick those unwanted pounds.

3 . Reduces Cholesterol

Amla  prevents accumulation of bad cholesterol in the arteries and promotes heart health. Try half a glass of Amla juice mixed with a tablespoon full of honey on an empty stomach in the morning.

4 . Fights Cold And Cough

Suffering from cough and cold? Instead of popping pills, give Amla a chance. Amla is an excellent source of vitamin C and that makes it a great remedy for cold. Extract the juice of two gooseberries and mix it with two tablespoons of honey and ginger powder. Have this mixture four times in a day for best results.

5 . Prevents Constipation

The high fiber content of Amla facilitates bowel movement.Have it raw or in juice forms for real good mornings.

6 . Regulates Blood Sugar

Amla juice is nothing short of the elixir of life for patients of Diabetes. Other than fighting the free radicals in blood, it facilitates Insulin absorption resulting in a reduced blood sugar level. Diabetics should include Amla in any of its forms in their diet for a healthy life.

7 . Boosts Immunity

The fruit is a rich source of Vitamin C, Vitamin B Complex and anti-oxidants. These fight the harmful free radicals and purifies the blood as well. So making a habit of having an Amla in the morning, raw or juiced will make you less vulnerable to diseases.

8 . Strengthens Bones

Amla aids the absorption of calcium and helps in strengthening bones.Snacking on a hand-full of candied ‘Amla’ or raw ‘Amla’ cubes sprinkled with salt and pepper will go a long way in this regard.

9 . Cools The Body

Amla has a cooling effect on our body and that is a welcome attribute in a country like India. Eat it raw or drink the juice of gooseberries daily to keep you at ease during the summers and also to prevent stomach ailments.

10 .  Nourishes Hair And Skin 

Amla is a natural hair conditioner and its anti-bacterial properties prevents and cures infection of the scalp. Studies show that it also prevents greying of hair. Soak a couple of mashed gooseberries in a liter of water overnight. Use this to wash your hair after shampooing for instant results.

Read More
Abhishek D Chouhan

Latest news about cancer


कैंसर की गिरफ्त में छोटे बच्चे भी, भारत में हर रोज 50 से ज्यादा की मौत





नई दिल्ली। जानलेवा बीमारी कैंसर की गिरफ्त में अब छोटे छोटे बच्चे भी आ रहे हैं। भारत में प्रति दिन कैंसर से 50 से ज्यादा बच्चों की मौत हो रही है। अध्ययन के मुताबिक एक महीने से 14 साल की उम्र के बच्चे कैंसर का शिकार हो रहे हैं। सरकार इस घातक बीमारी से निपटने के दावे करती है। लेकिन हकीकत ये है कि कैंसर से निपटने के लिए देश में आवश्यक सुविधाओं की भारी कमी है।

दिल्ली-कोलकाता में प्रोस्टेट कैंसर का सबसे ज्यादा खतरा

निम्न मध्य आय के लोगों पर असर

ग्लोबल ऑनकोलॉजी में प्रकाशित शोध पत्रों के अनुसार भारत में निम्न मध्य आय ग्रुप के लोगों पर इस बीमारी का ज्यादा असर है। कैंसर से निपटने के लिए सरकारी नीतियों को जिम्मेदार बताया गया है। विकसित देशों में अस्सी फीसद से ज्यादा कैंसर प्रभावित मरीजों को इलाज के जरिए जीवनदान मिल जाता है लेकिन भारत में जानकारी की कमी, लोगों की कम आय और सरकार की समेकित नीति में कमी की वजह से बच्चे और किशोरों की असमय मौत हो जाती है।

प्रति 10 लाख लोगों में 37 की मौत

टोरंटो विश्वविद्यालय और मुंबई स्थिति टाटा मेमोरियल सेंटर के अध्ययन में ये जानकारी सामने आयी है कि भारत में प्रति 10 लाख लोगों में 37 लोगों की पेट के कैंसर की वजह से मौत हो रही है। शोधकर्ताओं के मुताबिक भारत में कैंसर से होने वाली मौतों की एक बड़ी वजह इस बीमारी की गंभीरता और इससे लड़ने के लिए तैयार की गयी नीतियों में कमी है।


अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक कैंसर हॉर्ट अटैक और डायबीटिज से निपटने के लिए सरकार मल्टी सेक्टोर पॉलिसी पर काम कर रही है। सरकार ने इन बीमारियों से होने वाली मौतों में अाने वाले 10 सालों में 25 फीसद की कमी लाने की कोशिश में जुटी हुई है।

कैंसर की भयावहता तेजी से फैल रही है। लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में प्रत्येक साल 10 लाख से ज्यादा लोगों में कैंसर के लक्षण देखे जा रहे हैं। विश्न स्वास्थय संगठन के मुताबिक साल २०२५ तक इसमें करीब पांच गुना बढो़तरी हो जाएगी। कैंसर की वजह से देश की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ रहा है।
Read More
Abhishek D Chouhan

Tips for tension free exam

बोर्ड की परीक्षाओं का परिणाम आते ही जहाँ सामान्यतः चारों तरफ़ विद्यार्थियों में ख़ुशी की लहर दौड़ जाती है, वहीं न्यूज़ पेपर्स और टीवी चैनल्स पर कुछ दुखद समाचार भी सामने आते हैं, जहाँ विद्यार्थी अच्छे नंबर ना आने और मानसिक दबाव के कारण आत्महत्या तक कर बैठते हैं | यह एक बहुत ही गंभीर विषय है क्योंकि विद्यार्थी आत्महत्या के मामलों में हम प्रथम स्थान पर हैं |
दोस्तों, कहा जाता है कि “अभ्यास में जितना अधिक पसीना बहाओगे, युद्ध में उतना ही खून कम बहेगा” |



वैसे आज के प्रतियोगिता भरे युग में, पढ़ाई करना और अच्छे नम्बरों से पास होना किसी लड़ाई से कम नहीं रह गया है | बात तो बहुत सीधी सी है कि अगर आपको ये लड़ाई जीतनी है तो इसके लिए पहले से रणनीति बनाने और उसके अनुरूप तैयारी करने की आवश्यकता है |
आमतौर पर सही मार्गदर्शन के अभाव में विद्यार्थी ठीक ढ़ंग से तैयारी नहीं कर पाते और परीक्षा का समय नजदीक आते ही उनमें चिंता और घबराहट बढ़ने लगती है | किसी भी परीक्षा की तैयारी करने और सफल होने के कुछ सूत्र यहाँ दिए गए हैं |

1. काम को टालने की आदत छोड़े
मित्रों, यदि आप वास्तव में सफल होना चाहतें हैं तो आपको कार्यों को टालने की आदत का त्याग करना होगा | जो कार्य ज़रूरी है , उसे सही समय पर करें | आपने सुना होगा कि “काल करे सो आज कर , आज करे सो अब , पल में परलय होएगी ,बहुरि करेगा कब” | जिसका मतलब है कि हमें कल के काम को आज और आज के काम को अभी कर लेना चाहिए |
लेकिन आज के युवाओं ने एक नए दोहे को जन्म दे दिया है | उनका कहना है कि “आज करे सो काल कर , काल करे सो परसों, इतनी जल्दी क्यों करे , अभी पड़े हैं बरसों” | दोस्तों पर सच्चाई क्या है , ये हम सभी जानते है | इसलिए हमें काम को टालना नहीं चाहिए बल्कि सभी जरूरी काम समय पर करने चाहियें |

2. अध्ययन के लिए उपयुक्त स्थान का चयन करें
पढ़ाई करने के लिए एक उपयुक्त एवं शांत जगह का चुनाव करना बहुत ज़रूरी है | पढ़ाई का स्थान ऐसा होना चाहिए जहाँ पर पूरी एकाग्रता और शांत मन से बैठकर पढ़ा जा सके | यदि घर छोटा हो या घर में ऐसा कोई उपयुक्त स्थान ना हो तो घर के बाहर किसी शांत जगह , किसी दोस्त के घर या किसी पुस्तकालय (Library) में जाकर पढ़ना ज्यादा अच्छा होगा |

3. पढ़ाई के लिए समय सारणी बनाएं
जो भी विद्यार्थी सफल होना चाहता है उसके लिए आवश्यक है कि वह पढ़ाई के लिए निर्धारित किये गए समय की एक समय सारणी (Time Table) बनाएं | उस समय सारणी में हर विषय के लिए एक निश्चित समय आवंटित करें | एक सही समय सारणी बनाने पर ही आप हर विषय पर सही ध्यान दे पायेंगे | दोस्तों , केवल समय सारणी बना लेना ही पर्याप्त नहीं है , उसका पालन करना भी ज़रूरी है |

4. खेल कूद एवं मनोरंजन के लिए समय दें
एक विद्यार्थी के सर्वांगिक विकास (Comprehensive Development ) के लिए ज़रूरी है कि उसे पढ़ाई के साथ साथ खेल कूद और अपने मनोरंजन के लिए भी समय देना चाहिए | खेल कूद से शारीरिक विकास होता है |
घर के अन्दर भी आप बुद्धिवर्धक खेलों ( Memory Improvement Games ) का आनंद ले सकते हैं |

5. बड़े कार्यों को छोटे छोटे भागों में बाँटें
कोई भी बड़ा कार्य जब हम करने लगते हैं तो शुरुआत में बहुत कठिन और असंभव लगता है | लेकिन जब हम उसे छोटे छोटे टुकड़ों में बाँट देते हैं और तो वही काम आसान हो जाता है | इसी प्रकार पढ़ाई में भी बड़े Chapter या Formula को छोटे भागों में बाँट कर आसान बनाया जा सकता है | इससे पढ़ना आसान और रुचिकर हो जाता है |

6. अपने ऊर्जा स्तर को जानें
दिन में अलग अलग समय पर हर व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक उर्ज़ा का स्तर अलग हो सकता है | उदाहरण के तौर पर कुछ लोग सुबह के समय ज्यादा Fresh और Energetic महसूस करते हैं तो कुछ लोग शाम को या फिर रात के समय | कुछ लोगों को सुबह उठ कर पढ़ा हुआ ज्यादा याद रहता है तो कुछ को देर रात को पढ़ा हुआ | तो जिस समय आप अपने को ज्यादा Fresh और उर्ज़ावान महसूस करते हैं, वह समय आप अपनी पढ़ाई के लिए रखें |

7. पढ़ाई के बीच अल्प विश्राम लें
पढ़ाई करते समय आपका दिमाग थक जाता है | जब भी आप थकान महसूस करें तो एक अल्प विश्राम (Short Break) ज़रूर लें | आमतौर पर पढ़ाई करते समय 30 से 40 मिनट के बाद आपको थोड़ा आराम करना चाहिए |

8. मुख्य बिन्दुओं को Highlight करें
जब भी आप पढ़ाई करने बैठें, तो अपने साथ एक Highlighter Pen हमेशा रखें | अगर आपको कोई महत्वपूर्ण नाम, तिथि, स्थान या वाक्य दिखाई देता है तो तुरंत उसे Highlight कर लीजिये | इस तरह से Revision करते समय आपको काफ़ी मदद मिलेगी |

9. अपना लक्ष्य निर्धारित करें
जीवन में अपनी पढ़ाई के लक्ष्य निर्धारित कीजिये | आप कौन सा Chapter या किताब कितने दिनों में ख़त्म करना चाहते हैं, कौन से Subjects पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है अथवा अपने मनपसंद कॉलेज में जाने के लिए कितने प्रतिशत अंकों की ज़रूरत होगी | इस प्रकार अपनी पढ़ाई के लक्ष्यों तो तय करना बहुत ज़रूरी है | अगर आप हर हफ्ते, महीने का लक्ष्य निर्धारित करते हुए पढ़ाई करेंगे तो साल के अंत में बिना घबराहट के सही ढंग से परीक्षा की तैयारी कर पायेंगे |

10. सभी ज्ञानेन्द्रियों (Senses) को सम्मिलित करें
अपनी पाँचों ज्ञानेन्द्रियों (कान, नाक, आँख, जीभ और त्वचा) का यथासंभव प्रयोग अपनी पढ़ाई में करें | किताब में छपे पिक्चर और चार्ट्स आदि को ध्यान से देखें | यदि संभव हो तो लैब में Practical करें या विषय से सम्बंधित मॉडल को छू कर देखें | आजकल किताबों के साथ CD भी आती है | इन CDs से भी विषय को समझने में काफ़ी मदद मिलती है |

11. बुद्धिवर्धक तकनीकों का प्रयोग करें
यदि आप बुद्धिवर्धक तकनीकों (Memory Improvement Techniques) के बारे में जानते हैं या आपने इन्हें कहीं से सीखा है, तो इनका प्रयोग अपनी पढ़ाई में ज़रूर करिये | ये Techniques बहुत ही वैज्ञानिक और रिजल्ट ओरिएंटेड होती हैं |

12. संतुलित भोजन करें
एक पुरानी कहावत है “जैसा अन्न , वैसा मन”, जिसका अर्थ है कि व्यक्ति जैसा अन्न खाता है वैसा ही उसका मन और शरीर बनता है | यह बहुत ज़रूरी है कि आप संतुलित भोजन लें | कोल्ड ड्रिंक्स और पिज़्ज़ा व बर्गर जैसे जंक फ़ूड से बचें | भोजन का सही तरीका है कि आप सुबह का नाश्ता भारी , दोपहर का भोजन उससे हल्का और रात का भोजन उससे भी हल्का लें | यदि संभव हो तो रात के भोजन में केवल सलाद (Salad) और द्रव्य पदार्थ (Liquids) ही लें |

13. शरीर को स्वस्थ रखें
क्योंकि एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वस्थ मन निवास करता है, इसलिए सुबह के समय सैर पर जायें और अपने सामर्थ्य के अनुसार व्यायाम(Exercise) करें | जितना स्वस्थ आपका शरीर होगा, उतने ही आप एक्टिव और आत्मविश्वास से भरे रहेंगे |

14. प्रश्नों का उत्तर खोजें
यदि आपके मन में कोई प्रश्न है या किसी प्रश्न का उत्तर आपको समझ नहीं आता तो निसंकोच अपने अध्यापक से सहायता मांगें | हो सकता है कि ज्यादा या बार बार प्रश्न पूछने के लिए आपके अध्यापक आपको डांट दें, पर विश्वास कीजिये कि जो विद्यार्थी वास्तव में सीखने की इच्छा रखता है उसे सभी टीचर्स पसंद करते हैं और उसकी मदद के लिए सदा तैयार रहते हैं |

15. सभी संसाधनों का प्रयोग करें
पढ़ाई के लिए उपलब्ध सभी संसाधनों (Resources) का भरपूर प्रयोग करें | किताबों को ध्यान से पढ़ें, पुस्तकालय (Library) में जायें, अपने अध्यापकों और अभिभावकों से सहायता लें, दोस्तों और बड़े भाई-बहन से मदद मांगें, इन्टरनेट और टेलीविज़न आदि सभी उपलब्ध संसाधनों का सकारात्मक प्रयोग अपनी पढ़ाई के लिए करें |

16. ब्लेंक कार्ड्स (Blank Cards) का प्रयोग करें
पढ़ते समय किसी विशेष बात या किसी उत्तर के मुख्य बिन्दुओं (Main Points) को लिखने के लिए आप छोटे छोटे साइज़ के ब्लेंक कार्ड्स या पर्चियों का प्रयोग कर सकते है | ये कार्ड्स आपको revision करते समय काफ़ी मददगार साबित होंगे | परंतु सावधान, इसका अर्थ यह नहीं निकाला जाना चाहिए की आप इन्हें परीक्षा के समय नकल (Cheat Notes) के रूप में प्रयोग करें |

17. स्वयं को प्रोत्साहित करें
परीक्षा भवन में जाने से पूर्व स्वयं को प्रोत्साहित (Motivate) करें | जीवन की उन घटनाओं को याद करें, जब आप सफल हुए थे | अपने आप को विश्वास दिलाएं कि आप पहले भी कठिन परिस्थितियों एवं परीक्षाओं में सफल हो चुके हैं | इस परीक्षा में भी आप ज़रूर अच्छे अंकों के साथ सफल होंगे | इस प्रकार के सकारात्मक विचारों से आपका मनोबल बढ़ेगा और आप परीक्षा में अधिक बेहतर प्रदर्शन कर पायेंगे |

18. प्रश्नपत्र को ध्यान पूर्वक पढ़ें
जब भी आप कोई परीक्षा देते हैं तो उत्तर लिखना शुरू करने से पहले, प्रश्नपत्र को कम से कम दो बार ध्यानपूर्वक पढ़ लें | यह सुनिश्चित कर लें कि प्रश्न क्या है और उसका सही उत्तर क्या होगा | कई बार घबराहट में हम प्रश्न समझ ही नहीं पाते और गलत उत्तर लिख देते हैं |

19. अधिक मात्रा में जल लें
विज्ञान इस बात को प्रमाणित कर चुका है कि शरीर में जल का स्तर जितना अधिक रहता है, उतना ही हमारा मस्तिष्क अधिक कुशलता के साथ कार्य करता है | इस लिए अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिये | पढ़ाई करते समय अपने पास पानी की एक बोतल रखनी चाहिए | अगर संभव हो तो परीक्षा केंद्र (Examination Centre) में भी अपने साथ एक पानी की बोतल ले कर जायें और समय-समय पर पानी पीते रहें |

20. शांत हो जायें
परीक्षा में यदि उत्तर याद करने में कठिनाई हो तो घबराने कि आवश्यकता नहीं है | घबराहट से स्थिति और अधिक बिगड़ सकती है | आँखें बंद करके कुछ पल के लिए चुपचाप बैठ जायें और गहरी सांस लें | इससे आपके मन को शांत करने में सहायता मिलेगी | फिर धीरे-धीरे उत्तर याद करने की कोशिश करें | जो भी मुख्य बिंदु (Main Point) याद आये उसे कागज़ पर लिख लें |

Read More

Saturday, April 23, 2016

Ankit Karma

How to create a free Website in Hindi - Free मे website कैसै बनाए !!


क्या आप को Free मे एक website बनाना है !!!!

क्योकि में आपके लिए लेकर आया
हु ... कुछ ऐसी लिँक जिनमे आप सीख सकते है मुफ्त वेबसाइट कैसे बनाए !!!!!



फुल website बनाने के लिए>
1. yola.com
2. weebly.com
3. wix.com
4. zoho.com

होम पेज Site बनाने के लिए>
1. about.me
2. dooid.me
3. flavors.me
4. follr.com

Mobile site बनाने के लिए>
1. octomobi.com
2. onbile.com
3. wapka.mobi


किसी भी Help  के लिए कमेंट करे यहा !!!!!

Read More

Friday, April 22, 2016

Abhishek D Chouhan

What are brand name and generic drugs?

What are brand name and generic drugs?

A brand name drug is a medicine that’s discovered, developed and marketed by a pharmaceutical company. Once a new drug is discovered, the company files for a patent to protect against other companies making copies and selling the drug. At this point the drug has two names: a generic name that’s the drug’s common scientific name and a brand name to make it stand out in the marketplace. This is true of prescription drugs as well as over-the-counter drugs. An example is the pain reliever Tylenol®. The brand name is Tylenol® and the generic name is acetaminophen.

Generic drugs have the same active ingredients as brand name drugs already approved by the Food and Drug Administration (FDA). Generics only become available after the patent expires on a brand name drug. Patent periods may last up to 20 years on some drugs. The same company that makes the brand name drug may also produce the generic version. Or, a different company might produce it.

The Similarities

According to the FDA, to substitute a generic for a brand name drug:

1. It must contain the same active ingredients (the chemical substance that makes the drug work).

2. It must have the same dosage strength (the amount of active ingredients, for example 20 mg or 40 mg).

3. It must be the same dosage form (that is, it needs to be available in the same form as the original - for example, as a liquid, pill, etc.)

4. It must have the same route of administration (the way the medication is introduced into the body).

5. It must deliver similar amounts of the drug to the bloodstream (that is, it needs to deliver a comparable amount of the drug into the bloodstream within a similar time period as the brand name drug).

(How to have good education policy)
Click below link to know

http://twittindia.blogspot.in/2016/02/how-to-have-good-education-policy.html?m=1 

The Differences

Here’s how generics and brand name drugs differ:

1. They look different. (Federal law requires this.)
1.1 They could have different sizes, shapes, colors or markings.
1.2 They have different names.

2. They might have different inactive ingredients.
2.1 Drugs are made up of both active and inactive ingredients. Some people may be sensitive to inactive ingredients.
For example, some people have reactions to certain dyes used in some drugs.

3. The generic costs less than the brand name drug.
3.1 The cash price and insurance co-pay is usually lower. Generics can cost between 20 and 80 percent less, but keep in mind that cost is only one factor when considering the right medication for your condition.

4. Generics vary by manufacturer, which means you could receive different versions based on where you purchase your medications and what type of generic they dispense.
4.1 Different pharmacies carry different generics.
4.2 Even the same pharmacy may change generic suppliers.

(To know about top 10 deadliest diseases)
Click below link 

http://twittindia.blogspot.in/2016/04/the-top-10-deadliest-diseases.html?m=1


Why do brand name drugs cost more than generics?

It takes several years, costly scientific development and many clinical studies to get a drug approved. Manufacturers of new brand name drugs (also called “pioneer drugs”) usually take on the research and development costs for new medications. These research and development costs, along with marketing costs, account for most of the higher prices we pay for most brand name drugs. In contrast, generic drugs have less research and development costs since the original manufacturer has already done many studies to make sure the drug is safe. These savings are passed on to the consumer. However, while the brand name form is still protected by its patent, no generics can be produced. And, if a brand name drug has only just recently lost its patent, there may only be one generic form available. Usually, when there’s only one generic option available, it will be more expensive.

Read More
Abhishek D Chouhan

Way to develop personality



किसी भी व्यक्‍ति का व्यक्‍तित्व उसके चरित्र की विशेषताओं व व्यवहार के मेल से बनता है, जो उस के सभी कामो मे झलकता है। इस व्यवहार मे चेतन और अवचेतन दोनो प्रकार के व्यवहार शामिल हैं। हमारा व्यवहार पूरे जीवन मे कई तथ्यो के प्रभाववश समय-समय पर बदलता रहता है। हमारे जीने और काम करने के तरीके मे लगातार बदलाव आता रहता है । यद्यपि इन बदलावो के बावजूद व्यवहार की जो छाप पहले- पहल पडती है वह आसानी से मिट नही पाती।



हमारा व्यक्‍तित्व, हमारा अस्तित्व, इसी जीवन का एक अंग है। हमारे विश्‍वास उन पत्तों की तरह है, जिनका जीव आकृति विज्ञान, संसाधन एकत्र करने व आत्म विचारों को सुधारते है। इन्ही से मिल्कर हमारा व्यक्‍तित्व बनता है। व्यक्‍तित्व को निखारने से व्यक्‍ति न केवल स्वंय बेहतर प्रदर्शन करता है अपितु अपनी टीम से भी बेहतर करबा सकता है। एक अच्छे व्यक्‍तित्व मे नेतृत्व की सभी विशेषताएं होती है जो आज के समय मे बहुत ज़रुरी है। व्यक्‍तित्व से ही झलक मिलती है कि सामने वाले व्यक्‍ति मे नेतृत्व की क्षमता है कि नही? इसी सीमा तक आकर व्यक्‍तित्व व नेतृत्व की क्षमताएं मिलकर किसी व्यक्‍ति को क्षेत्र विशेष मे सफल बनाती है। अपनी छिपी प्रतिभा को निखारने के लिए कुछ सुझाव दिए गए है लेकिन वे अंतिम सत्य नही है। आप अपनी इच्छाअनुसार इसमे कुछ भी घटा या बढा सकते हैं लेकिन एक वात तो निश्‍चित ही है, व्यक्‍तित्व विकास कोई एक दिन मे किया जाने वाला पाठय़क्रम नही है। इसमे आपके पूरे जीवन के रहने और काम करने का तौर- तरीका भी शामिल है ।


आप अपने व्यक्‍तित्व को कैसे निखार सकते है? जो भी कार्य करें, उस मे श्रेठ प्रदर्शन करें । एक सफल व संपूर्ण व्यक्‍तित्व का सफलता से गहरा संबंध होता है। यह सफलता पाने के अवसरों को बढा सकता है।


हम इस संसार मे आद्धितीय क्षमताओं के साथ आए है। हमारे जैसा कोई नही है। हमारे व्यवहार, आचरण और भाषा पर वर्षो से हमारे परिवार, स्कूल, मित्र, अध्यापकों व वातावरण की छाप होती है। आप बस इतना करे कि सहज व प्राकृतिक बने रहें। लोग दिखावटी चेहरों को आसानी से पहचान लेते हैं। हम सब के पास कोई न कोई प्राकृतिक हुनर है।


आप व्यक्‍तित्व को निखारना चाहते है तो अपने भीतर छिपे उस प्रतिभा, हुनर को पहचान कर उभारें। हर कोई एक अच्छा गायक या वक्ता नही बन सकता। यदि विंस्टन चर्चिल ने एक प्रेरणास्पद नेता बनने की बजाए गायक बनने की कोशिश की होती तो शायद वह कभी उसमे सफल नही हो पाते। इसी तरह महात्मा गाँधी एक अच्छे व्यवसायी नही बन सकते थे।


हम सब हालात के प्रति अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया व्यक्त करते हैं। किसी दूसरे की नकल करने की वजाए वही रहें, जो आप है हर कोई मिस्टर या मिस यूनिवर्स तो नही बन सकता लेकिन दूसरो के अनूभवो से सीखकर अपने में सुधार तो ला सकता है। जीवन मे थम कर बैठने के बजाए बेहतरी का कोई न कोई उपाय आज़माते रहना चाहिए ।


व्यक्‍तित्व का उपलब्धियो व प्रदर्शन से संबंध होता है, इस दिशा मे पहला कदम यही होगा कि आप तय करें कि आप क्या बनना चाहते है और आप उस के लिए क्या करने जा रहे हैं। आपकी योजना व्यवहारिक व स्पष्‍ट होनी चाहिए । सफलता की सभी योजनाए कल्पना से ही आरंभ होती है। योजना को हकीकत मे बदलने के लिए कल्पना शक्‍ति का प्रयोग करें। योजनाबद्ध कार्य, धैर्य, दृड संकल्प किसी भी सपने को साकार कर सकता है। 
Read More

Tuesday, April 19, 2016

Navin Artani

The top 10 deadliest diseases

THE TOP 10 DEADLIEST DISEASES

The news is filled with stories about Ebola and breast Cancer gets a lot of press too.but the whole world people suffering with several of the deadliest diseases,their are top 10 deadliest diseases have included to know, how this diseases terror the person life they are:-

coronary artery disease(Ischemic heart disease)


CAD is occurs when the blood vessels that supply blood to the heart become narrowed.the risk factors are high blood pressure, high cholesterol and smoking.

stroke


A stroke is when an artery in the brain is blocked or leaks. oxygen-deprived brain cells begin to die within minutes.

chronic obstructive pulmonary disease (COPD)


COPD is a chronic, progressive lung disease that makes it hard to breathe. chronic bronchitis and emphysema are types of COPD.
the main cause of COPD is tobacco and that means secondhand smoke too. another factor is air pollution.

lower respiratory infections 

this is group of diseases include pneumonia, bronchitis and influenza.

trachea, bronchus and lung cancers

trachea, bronchus and lung cancer are all respiratory cancers. the main causes are all respiratory cancers. the main causes of this type of cancer are smoking, second-hand smoke, and environmental toxins.

HIV/AIDS

HIV is virus that attacks the immune system. that causes AIDS is chronic, life threatening condition.
rates vary dramatically by geographical location. HIV is rampant in sub-saharan africa, where  almost one in 20 adults has it. the region is home to 70 % of all people who have HIV.

Diarrheal diseases


Diarrhea is when you pass three or more loose stools a day.when diarrhea lasts more than a few days, your body loses too much water and salt. death is due to dehydration.Diarrhea is usually caused by an intestinal infection transmitted through viruses, bacteria or even parasites. 

Diabetes mellitus

diabetes is a group of diseases that affect insulin production and use. in type 1 diabetes, the pancreas can no longer produce insulin, 

preterm birth complications 


the rates show that deaths were due to prematurity and complications due to low birth weight. three-quarters of these deaths happen within the first week of life. lack of skilled medical use makes this huge problem in developing countries.

Tuberculosis (TB)


TB is a lung condition caused by bacteria called mycobacterium tuberculosis. it's an airborne disease that is often successfully treated. some strains of TB are resistant to conventional treatments.


" They didn't make the top 10 deadliest disease list, but these diseases are definitely worth noting."
Read More

Monday, April 18, 2016

Abhishek D Chouhan

Shocking news about what's App


व्हाट्सएप इंस्टेंट मेसेजिंग एप लोगो की जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुकी है| लेकिन ये खबर शायद आपको परेशानी में डाल दे| खबर आई है की अपनी नई इनक्रिप्शन सर्विस को लेकर दुनिया का नंबर वन मैसेंजर व्हाट्सएप फंस सकता है। इस फीचर के आने से व्हाट्सएप, मैसेज, कॉल, फोटो और वीडियो सहित सभी कंटेंट को इनक्रिप्ट किया जा चुका है। 



अब आपके व्हाट्सएप मैसेज कोई नहीं पढ़ सकेगा। यहां तक कि खुद व्हाट्सएप के पास भी आपका डाटा नहीं होगा। अब सुनने में आया है की यह सेवा भारत के आईटी नियमों के मुताबिक गैरकानूनी हो सकती है। आईटी एक्ट निजी क्षेत्र में 256 बिट्स इन​क्रिप्शन की इजाजत नहीं देता है।


हालांकि इस बारे में अब तक कोई विशेष नियम नहीं है लेकिन फिर भी टेलीकॉम मंत्रालय के कुछ नियमों का व्हाट्सएप उल्लंघन कर रहा है। इस आधार पर व्हाट्सएप इनक्रिप्शन को भारत में अवैध बताया जा सकता है। हमारे देश में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के लिए जो लाइसेंस एग्रीमेंट है वह इस इनक्रिप्शन सर्विस को रोकता है|


व्हाट्सएप के इस नए इनक्रिप्शन फीचर के बाद आपके मैसेज सिर्फ मैसेज भेजनेवाला और जिसे भेजा गया है वही पढ़ पाएगा। अब तक व्हाट्सएप के मैसेज सुरक्षा एजेंसियों से लेकर हैकर तक कोई भी इंटरसेप्ट कर सकता था, लेकिन अब मैसेज ऐसे कोड में जाएगा कि कोई नहीं पढ़ पाएगा। अब तक ऐसे मामले आते रहे हैं जिनमें व्हाट्सएप पर मैसेज को हैकर्स ने हैक कर कई खुफिया जानकारियां चुराई हैं।
Read More

Saturday, April 16, 2016

Abhishek D Chouhan

Simple tips to learn spoken English

स्पोकेन इंग्लिश सीखने के लिए नीचे दिए गये सुझावों को अपनाइए .


1. अपना महौल English बनाएं :

किसी भी भाषा को सीखने में जो एक चीज सबसे महत्त्वपूर्ण होती है वो है हमारा environment, हमारा माहौल . आखिर हम अपनी मात्र -भाषा छोटी सी ही उम्र में कैसे बोलने लगते हैं :- क्योंकि 24X7 हम ऐसे माहौल में रहते हैं जहाँ वही भाषा बोली , पढ़ी, और सुनी जाती है . इसीलिए अंग्रेजी बोलना सीखना है तो हमें यथा संभव अपने माहौल को English बना देना चाहिए . इसके लिए आप ऐसा कुछ कर सकते हैं:
• हिंदी अखबार की जगह English Newspaper पढना शुरू कीजिये .
• हिंदी गानों की जगह अंग्रेजी गाने सुनिए .
• अपने interest के English program / movies देखिये .
• अपने room को जितना English बना सकते हैं बनाइये ….English posters, Hollywood actors,English books,Cds ..जैसे भी हो जितना भी हो make it English.
2. ऐसे लोगों के साथ group बनाएं जो आप ही की तरह स्पोकेन इंग्लिश सीखना चाहते हों :

कुछ ऐसे दोस्त खोजिये जो आप ही की तरह अंग्रेजी बोलना सीखना चाहते हैं . अगर आपके घर में ही कोई ऐसा है तो फिर तो और भी अच्छा है . लेकिन अगर ना हो तो ऐसे लोगों को खोजिये , और वो जितना आपके घर के करीब हों उतना अच्छा है . ऐसे दोस्तों से अधिक से अधिक बात करें और सिर्फ English में . हाँ ,चाहें तो आप mobile पर भी यही काम कर सकते हैं .
3. कोई mentor बना लें:

किसी ऐसे व्यक्ति को अपना mentor बना लें जो अच्छी English जानता हो, आपका कोई मित्र, आपका कोई रिश्तेदार, कोई पडोसी, कोई अंग्रेजी सीखाने वाला institute ….कोई भी जो आपकी मदद के लिए तैयार हो. आपको अपने मेंटर से जितनी मदद मिल सके लेनी होगी. अगर आप को मेंटर ना मिले तो भी मायूस होने की ज़रुरत नहीं है आप अपने efforts में लगे रहे , मेंटर मिलने सी आपका काम आसानी से होता लेकिन ना मिलने पर भी आप अपने प्रयास से यह भाषा सीख सकते हैं.
4. पहले दिन से ही correct English बोलने का प्रयास मत करें :

अगर आप ऐसा करेंगे तो आप इसी बात में उलझे रह जायेंगे की आप सही बोल रहे हैं या गलत . पहला एक -दो महिना बिना किसी tension के जो मुंह में आये बोले , ये ना सोचें कि आप grammatically correct हैं या नहीं . जरूरी है कि आप धीरे -धीरे अपनी झिझक को मिटाएं .
5. English सीखने के लिए Alert रहे :

वैसे तो मैं अपनी spoken English का श्रेय अपने school St.Paul’s को देता हूँ पर अंग्रेजी के लिए अपनी alertness की वजह से भी मैंने बहुत कुछ सीखा है . मैं जब TV पर कोई English program देखता था तो ध्यान देता था की words को कैसे pronounce किया जा रहा है , और किसी word को sentence में कैसे use किया जा रहा है . इसके आलावा मैंने नए words सीखने के लिए एक diary भी बनायीं थी जिसमे मैं newspaper पढ़ते वक़्त जो words नहीं समझ आते थे वो लिखता था , और उसका use कर के एक sentence भी बनता था , इससे word की meaning याद रखने में आसानी होती थी .
6. बोल कर पढ़ें :

हर रोज आप अकेले या अपने group में तेज आवाज़ में English का कोई article या story पढ़ें . बोल -बोल कर पढने से आपका pronunciation सही होगा , और बोलने में आत्मविश्वास भी बढेगा . 

7. Mirror का use करें :


मैं English बोलना तो जानता था पर मेरे अन्दर भी fluency की कमी थी , इसे ठीक करने के लिए मैं अक्सर अकेले शीशे के सामने खड़े होकर English में बोला करता था . और अभी भी अगर मुझे कोई presentation या interview देना होता है तो मैं शीशे के सामने एक -दो बार practice करके खुद को तैयार करता हूँ . आप भी अपने घर में मौजूद mirror का इस्तेमाल अपनी spoken English improve करने के लिए कीजिये . शीशे के सामने बोलने का सबसे बड़ा फायदा है कि आप को कोई झिझक नहीं होगी और आप खुद को improve कर पाएंगे .

8. Enjoy the process:

English बोलना सीखेने को एक enjoyment की तरह देखें इसे अपने लिए बोझ ना बनाएं . आराम से आपके लिए जो speed comfortable हो उस speed से आगे बढें . पर इसका ये मतलब नहीं है कि आप अपने प्रयत्न एकदम से कम कर दें , बल्कि जब आप इसे enjoy करेंगे तो खुद -बखुद इस दिशा में आपके efforts और भी बढ़ जायेंगे . आप ये भी सोचें कि जब आप fluently बोलने लगेंगे तब कितना अच्छा लगेगा , आप का confidence भी बढ़ जायेगा और आप सफलता की तरफ बढ़ने लगेंगे .
9. English में सोचना शुरू करें :

जब इंसान मन में कुछ सोचता है तो naturally वो अपनी मात्र भाषा में ही सोचता है . लेकिन चूँकि आप English सीखने के लिए committed हैं तो आप जो मन में सोचते हैं उसे भी English में सोचें . यकीन जानिये आपके ये छोटे -छोटे efforts आपको तेजी से आपकी मंजिल तक पंहुचा देंगे .
10. ऐसी चीजें पढ़ें जो समझने में बिलकुल आसान हों:

बच्चों की English comics आपकी हेल्प कर सकती है, उसमे दिए गए pictures आपको story समझने में हेल्प करेंगे और simple sentence formation भी आम बोल चाल में बोले जाने वाले सेंटेंसेस पर आपकी पकड़ बना देंगे.

11. Internet का use करें :
आप स्पोकेन इंग्लिश सीखने के लिए इन्टरनेट का भरपूर प्रयोग करें. You Tube पर available videos आपकी काफी हेल्प कर सकते हैं. सही pronunciation और meaning के लिए आप TheFreeDictionary.Com का use कर सकते हैं.
12. Interest मत loose कीजिये :
अधिकतर ऐसा होता है कि लोग बड़े जोशो -जूनून के साथ English सीखना शुरू करते हैं . वो ज्यादातर चीजें करते हैं जो मैंने ऊपर बतायीं , पर दिक्कत ये आती है कि हर कोई अपनी comfort zone में जाना चाहता है . आपकी comfort zone Hindi है इसलिए आपको कुछ दिनों बाद दुबारा वो अपनी तरफ खींचेगी और ऊपर से आपका माहौल भी उसी को support करेगा . इसलिए आपको यहाँ पर थोड़ी हिम्मत दिखानी होगी , अपना interest अपना enthusiasm बनाये रखना होगा . इसके लिए आप English से related अपनी activities में थोडा innovation डालिए . For example : यदि आप रोज़ -रोज़ serious topics पर conversation करने से ऊब गए हों तो कोई abstract topic, या फ़िल्मी मसाले पर बात करें , कोई इंग्लिश मूवी देखने चले जाएँ, या फिर कुछ और करें जो आपके दिमाग में आये.आप एक -दो दिन का break भी ले सकते हैं , और नए जोश के साथ फिर से अपने mission पर लग सकते हैं . पर कुछ ना कुछ कर के अपना interest बनाये रखें . वरना आपका सारा effort waste चला जायेगा .
Read More